हेलौ दोस्तों मै आज एक स्टोरी शेयर करना चाहता हु. शायद स्टोरी थोड़ी लम्बी हे लेकिन सच्ची हे , तो पसंद आएगी | कहानी हे 1 लड़के और लड़की की है(राज और सिमरन ) ,आपकी भाषा में love story . (1) कहानी शुरू होती है 7th क्लास से, राज B -section का लड़का है बिलकुल भी पढ़ाई में मन नहीं लगाता, मस्तीखोर ,पूरा ध्यान खेल के मैदान में , सबके मजे लेना ,सबसे मस्ती करवाना ,बस पढ़ाई नहीं करना | वही दूसरी तरफ सिमरन A -section की सीधी साधी नार्मल सी लड़की और क्लास की टोपर भी , बाप रे कड़क …….. अति सूंदर गोरा चेहरा ,छोटी छोटी आंखें ,नाक में नथिनी, boycut hair style . राज तो दिन भर बस खेलने में निकल देता । न मुँह धोना बस मुँह उठाके के क्लास , गजब का बंदा , सबसे हंस के बात करना ,सबके साथ अच्छा व्यहवार । उस दिन पता नहीं क्यू राज खो-खो खेलने चला गया । खेलते -खेलते वो दिख गयी , भाई साहब को तो पहली नज़र में ही । चोट लगी बोल कर टीम से निकल गया और उसको ताड़ने लगा .बहुत देर तक लेकिन उधर से कोई responce नहीं मिला … बेचारा हॉस्टल में चला गया । उसके बारे में सोच -सोच कर नींद कब आ गयी उसे पता भी नहीं चला ।अगले दिन जब अस्सेम्ब्ली के लिए लाइन में लगने के लिए आगे आया तभी वो उसे दिखी , राज की आंखों में जो ख़ुशी आयी न लाइफ की सबसे अच्छी फीलिंग , बस उसे देखता ही रहा शायद वो १ बार देखती भी है , लेकिन राज अपनी नजर हटा लेता है । क्लास में भी ध्यान नहीं देता , उसका १ अच्छा दोस्त A -section में है उसका नाम चन्दन है वैसे तो बहुत सारे दोस्त है लेकिन चन्दन का लेवल अलग है वो राज से कम वाला नहीं है जितना हरामी राज है उतना ये भी । जैसे ही हॉस्टल में घुसा सबसे पहले चन्दन के पास जाकर बोलता है “भाई को लड़की पसंद आ गयी है “। चन्दन – सच्ची क्या???? क्या बात कर रहा है, राज- भाई मजाक नहीं कर रहा … ‘तू रहने दे यार सर मत खाये मेरा’ भाई नहीं है मेरा , तू भाड़ में जा …. (ग़ुस्से से जाने लगता है ) चन्दन दौड़ कर आता है और बोलता है अबे मजाक कर रहा था ,पता था मुझे -राज बोलता है चन्दन से । चन्दन -बता कौन पसंद आयी है उसको हॉस्टल में ही लेकर आ जाऊंगा । राज- इतनी मेहरबानी नहीं चाहिए बस नाम पता कर तू , तेरे ही section में है । चन्दन – क्या????….. वाहः बेटा मेरे section ही की मिलीं तुझे . राज-अबे आज जो आगे से दूसरे नम्बर पर खड़ी थी म,मेरे से थोड़ी कम हाइट है मस्त है यार बात करवा ना चन्दन – हट साले मेरी ही नहीं धूल रही में तेरे लिए बात करू , मै नहीं बात करने वाला . राज- देख लिया बेटा यही दोस्ती यही प्यार भूल गया भाई को , अबे मुझसे पट गयी तो अगला तेरा नम्बर चन्दन- सच्ची ना । राज- है यार । चन्दन- कल पक्का । राज-भाई ह तू मेरा ।